शब्दों की ताकत

जीभ बाइबल हमारे शरीर के एक छोटे लेकिन शक्तिशाली हिस्से के रूप में जीभ का वर्णन करती है। यह हमारे आस-पास के लोगों और हमारे स्वयं के जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव डाल सकता है, अच्छे या बुरे के लिए। इसलिए यह सभी के हित में है कि हम उन शब्दों को नियंत्रित करना सीखते हैं जो हमारे मुंह से …

स्त्री पुरुष के सम्बन्ध कि रचना परमेश्वर की ओर से है

जब बाइबल “एक तन” के बारे में बोलती है, तो यह स्त्री पुरुष के सम्बन्ध के बारे में बोलती है। यह सम्बन्ध शरीर, मन और आत्मा का सम्मिश्रण है। इसका मतलब है कि हम अपने सभी सपनों, गहरी इच्छाओं, ऊर्जाओं और प्यार को अपने पति या पत्नी के सामने प्रकट करते हैं और “अपने आप” को सबसे बड़े उपहार के …

अच्छे रिश्ते

दूसरों को प्राथमिकता देना बाइबल के माध्यम से, परमेश्वर हमें सिखाता है कि अच्छे रिश्ते कैसे होते हैं। बेशक, यह दूसरों को बदलने के बारे में नहीं है, बल्कि बेहतर परिवार के सदस्य, दोस्त या जीवन साथी बनने के लिए खुद को बदलने के बारे में है। हमें दूसरों को खुद से अधिक महत्वपूर्ण समझने के बारे में सीखना होगा। …

मन

परमेश्वर के बारे मे विचार करना परमेश्वर का वचन हमारे मन और हमारे विचारों के बारे में बहुत कुछ कहता है। परमेश्वर ने हमें नए जीवन के साथ-साथ सोचने का नया तरीका भी दिया है। हमारे सोचने और जीने के तरीकों को हमें परमेश्वर के सत्य वचन पर आधारित करना होगा। अपनी सोच बदलें जो चीज़े हमारा नियंत्रण करती हैं …

मैं कैसे फलदायी हो सकता हूं?

बढ़त परमेश्वर ने हमें फलदायी होने के लिए बुलाया है। उसने हमे चुन लिया है, ताकि हम उसके फलदायी स्वभाव में बढ़ें। हमारे जीवन के लिए उसके उद्देश्यों को पूरा करें और उसके राज्य की वृद्धि हो। यह एक बड़ी चुनौती है लेकिन यह सबसे महत्वपूर्ण और पुरस्कृत चीज है जिसे हम अपने जीवन में प्राप्त कर सकते हैं। फल …

विकास के लिए परमेश्वर का वादा

विकास और संख्या वृद्धि परमेश्वर ने सभी जीवित चीजों को विकसित और संख्यावृद्धि करने के लिए बनाया। यह वृद्धि और गुणन केवल भौतिक नहीं है, बल्कि आत्मिक भी है। जबकि परमेश्वर चाहता है कि हम व्यक्तिगत रूप से विकास का अनुभव करें, वह यह भी चाहता है कि हमारी वृद्धि और गुणन दूसरों को मिले। परमेश्वर चाहता है कि उसका …

आनंद

हमेशा आनन्‍दित रहो! आनंद परमेश्वर को जानने से आता है, हमारे लिए उसका प्यार, और उसका उद्धार को जानने से। यह ऊपरी भावना नहीं है जो हमारी परिस्थितियों पर निर्भर करता है। परमेश्‍वर चाहता है कि हमें हर समय पूर्ण अनानंद मे रहे। हम ऐसा तब कर सकते हैं जब हम परमेश्वर की सच्चाई को पकड़े रहते हैं और उसमे …

प्रेम

सबसे बड़ा कारण जब हम बाइबल पढ़ते हैं तो हम इस बारे में प्रोत्साहित होते हैं कि परमेश्वर हमसे कितना प्यार करते हैं। लेकिन परमेश्वर हमें दूसरों के लिए अपने समान प्रेम रखने की आज्ञा भी देते हैं – यहाँ तक कि हमारे दुश्मन से भी! दूसरों के लिए हमारा प्यार वास्तविक होना चाहिए, न केवल शब्दों के माध्यम से, …

स्वतंत्रता

सत्य को ग्रहण करना परमेश्वर हमसे प्यार करता है और चाहता है कि हम पाप, मृत्यु और उन सभी झूठों से पूरी तरह मुक्त हो जाएँ जो हमें दुख पहुँचाएँ। जब हम परमेश्वर के सत्य को उसके वचन में खोजते हैं और इसे अपने जीवन में लागू करते हैं, हम अधिक से अधिक स्वतंत्रता का अनुभव करेंगे और हम इस …

एस्तेर

इस तरह के एक समय के लिए एस्तेर बाइबिल की महान स्त्रियों में से एक है। उसे एक फारसी राजा द्वारा रानी बनने के लिए चुना गया था, जहां उसके लोगों पर अत्याचार किया जा रहा था। उसने अपने लोगों को नष्ट करने की साजिश के बारे मे पता लगाया, और एक बड़ा निर्णय लेने का फैसला किया। उसके साहस …