प्रार्थना और वचन से लोगों की मदद करना

जीवन और शक्ति के साथ

परमेश्वर की शक्‍ति की परवाह किए बिना उसके के वचन को साझा करना उस सामान है, जैसे अपने मेहमानों को एक केक देना और उन्हें इसे खाने नहीं देना। हमें परमेश्वर के वचन को, जो लोगों के जीवन को बदलता है, एक साहसिक और शक्तिशाली तरीके से साझा करना होगा। जब लोग परमेश्वर के वचन को चखें और प्रार्थना की शक्ति का अनुभव करें तो वचन उनके जीवन को छुए और उनका जीवन उभरे।

परमेश्वर के वचन का महत्व

नीचे लिखे वचनों से पता चलता है कि लोगों के जीवन में ईश्वर के वचन की क्या भूमिका है।

पौलुस का उदाहरण

नीचे लिखे उदाहरण दिखाते हैं कि कैसे पौलुस ने वचन लोगों कि सेवा की।

– परमेश्वर के वचन को प्रोत्साहन और उत्थान लाना चाहिए।
– पवित्र आत्मा के नेतृत्व में वचन

पौलुस ने सादगी को क्यों महत्व दिया?

– पाप को “पाप” कहने से डरना नहीं चाहिए

पौलुस ने किस चीज़ को पाप कहा?

– मुख्य मुद्दे पर ध्यान दें। हर विवरण से निपटने की आवश्यकता महसूस न करें।

इस उदाहरण में मुख्य मुद्दा क्या था?

– नकारात्मक दृष्टिकोण, आत्म-दया, या गलत सोच के प्रति सहानुभूति न रखें।

Prayer

From the following scriptures list what role prayer has in people’s lives?

पूछिए

  • किसी को परमेश्वर का वचन देने के बारे में कोई कहानी आप हमें बता सकतें हैं?
  • किसी भी स्थिति में परमेश्वर के वचन से क्या साझा करें या क्या प्रार्थना करें इस बारे में आप कैसे जानते हैं?

आवेदन

  • आप परमेश्वर का वचन बताने और प्रार्थना को कैसे तैयार कर सकते हैं?
  • इस सप्ताह आप क्या अवसर ले सकते हैं?

प्रार्थना

हे प्रभु, मुझे आपके वचन और प्रार्थना का एक अच्छा सेवक बनने में मदद करें। पवित्र आत्मा में प्रेम, विश्वास और शक्ति के पौलुस के उदाहरण के लिए धन्यवाद। आपका वचन और प्रार्थना मेरे जीवन में बने रहने की इच्छा करता हूं।

प्रमुख पध